उज्जैन: राष्ट्र में शुक्रवार को काल भैरव अष्टमी बड़े ही धूमधाम से मनाई जाएगी. जानकारी के अनुसार बता दें कि मध्यप्रदेश के उज्जैन में इसे बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. यहां बता दें कि अष्टभैरव की नगरी उज्जैन में भैरव अष्टमी की धूम छाई है  राजाधिराज महाकाल के सेनापति कालभैरव के शहर में आठ भैरव विराजित हैं. वहीं इनमें शामिल छप्पन भैरव को गुरुवार को 1111 प्रकार की खाद्य सामग्री  पेय का भोग लगाया गया.

यहां बता दें कि भैरव को चढ़े महाभोग में 58 प्रकार की शराब, 22 तरह की सिगरेट  12 ब्रांड की बीड़ी शामिल है. वहीं इतना ही नहीं भोग में तंबाकू, गुजराती नमकीन और विदेशी मिठाई भी परोसी गई है. बता दें कि गुरुवार को छप्पन भैरव को महाभोग अर्पित किया गया. शुक्रवार को भी पर्व मनाया जा रहा है. इसके अतिरिक्त बता दें कि उज्जैन में श्रीभैरव अपने सर्वाधिक स्वरूपों में विराजमान है.भैरव को शिव अवतार माना जाता है. तंत्रशास्त्र में दस भैरवों का उल्लेख किया गया है.

गौरतलब है कि आस्था के मंदिरों में शामिल उज्जैन में महाकाल का आर्शीवाद प्राप्त है. वहीं बता दें कि उज्जयिनी अष्टभैरवों की नगरी है ये अष्टभैरव दंडपाणी, विक्रांत, आताल-पाताल या महाभैरव, बटुक, गौरे, क्षेत्रपाल, आनन्द  कालभैरव के रूप में विख्यात है. अष्टभैरव में कालभैरव प्रमुख देव है.कालभैरव को मदिरा का देव भी बोला जाता है.