आप जल्द ही बिना ड्राइवर वाली कार में बैठकर आप ब्रज के दर्शन कर सकेंगे. सिंगापुर की तर्ज पर मथुरा में पीआरटी सिस्टम के तहत चलने वाली कार की योजना का प्रस्ताव बनकर तैयार हो गया है.एक कंपनी ने शनिवार को ऊर्जा मंत्री के सामने पीआरटी सिस्टम का प्रेजेंटेशन किया. इसमें बताया गया कि किस प्रकार से कार के इस्तेमाल से न केवल यातायात की समस्याओं से मुक्ति मिलेगी, बल्कि प्रदूषण भी समाप्त होगा. नौ हजार करोड़ की लागत से तैयार होने वाले इस प्रोजेक्ट से मथुरा, वृंदावन तथा गोवर्धन को जोड़ा जाएगा. पूरी धनराशि सिंगापुर की कंपनी द्वारा खर्च की जाएगी.शासन इस प्रोजेक्ट पर सैद्धांतिक सहमति दे चुका है.

वही ऊर्जामंत्री कि माने तो यह एक प्रस्ताव है. यह प्रोजेक्ट प्रारंभ होता है तो दो साल में पूरा हो जाएगा. करीब चार हजार लोगों को इससे रोजगार मिलेगा. ब्रज एरिया में इस प्रोजेक्ट से यातायात में सुधार होगा, बल्कि पर्यटन भी बढ़ेगा. पीआरटी प्रोजेक्ट मथुरा-वृंदावन  गोवर्धन के लिए अलग-अलग 6-6 हजार करोड़ का है, जबकि तीनों स्थानों पर एक साथ करने पर इसकी लागत मात्र नौ हजार करोड़ की होगी. अगर यह योजना लागू होती है तो यातायात सुगम हो जाएगा.

जानकारी के लिए बता दें यह कार सड़क पर नहीं बल्कि कॉलम पर बने हुए स्ट्रक्चर पर चलेगी. यह यात्रियों द्वारा बटन दबाने पर स्वत: उनके पास पहुंच जाएगी. यह विश्व का सबसे आधुनिकतम ट्रांसपोर्ट सिस्टम है. राज्य गवर्नमेंट शहरों में ट्रैफिक का दबाव कम करने के लिए सुगम सुविधाजनक यातायात का साधन उपलब्ध कराना चाहती है. इसके लिए मेट्रो के अतिरिक्त अन्य विकल्पों की भी तलाश की जा रही है.