भारत में आये दिन महगाई और पेट्रोल के रेट बढ़ने को ले कर विपक्ष सरकार पर हमलावर रहती है। अगर हम महगाई की वैश्विक स्थिति पर नजर डालें तो पायेंगे की दुनिया के कुछ अहम और विकसित देश भी ऐसी ही समस्याओं से दो चार हैं। इन्हीं देशों में से एक देश है फ्रांस जहाँ के आम लोग बढती महगाई से त्रस्त हैं और उनका विरोध अब हिंसक हो गया है।

बता दें की फ़्रांस की राजधानी पैरिस में महंगाई बढ़ने तथा पेट्रोल के रेट बढ़ जाने के विरोध में पिछले दो सप्ताह से आम लोगों प्रदर्शन चल रहा है। वहां के लोगों ने इस विरोध प्रदर्शन का नाम ‘येलो वेस्ट’ रखा है। इस विरोध प्रदर्शन में आने वाले सभी प्रदर्शनकारी पीले रंग की वेस्ट को पहनकर आटे हैं और अपना विरोध अर्ज कराते हैं। पिछले करीब 15 दिनों से यह प्रदर्शन जारी है और पिछले शनिवार के दिन ये और ज्यादा उग्र हो गया।

शनिवार को पेट्रोल और पेट्रोल की बढ़ी हुई कीमतों और हाइड्रोकार्बन टैक्स बढ़ाने के विरोध में बड़ी संख्या के लोगों के सड़कों पर उतरने के बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई और प्रदर्शन उग्र हो गया। इस विरोध प्रदर्शन के उग्र हो जाने के बाद प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों और बिल्डिंगों में आग लगाना आरम्भ कर दिया।इस उग्र विरोध प्रदर्शन के दौरान की वीडियो फूटेज को फ़्रांस की पुलिस ने जारी किया है जिसमे प्रदर्शन कर रहे लोग पुलिस की गाड़ियों को निशाना बनाते हुए साफ़ देखे जा रहे थे वहीँ एक दूसरे वीडियो में पुलिस प्रदर्शनकारियों को भगाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ते हुए नजर आ रही है।

इस विरोध प्रदर्शन में अकेले राजधानी पैरिस में 288 लोगों को गिरफ्तार किया गया है वहीं इस दौरान करीब 100 लोगों के घायल होने की बात भी बताई गई है।

इस पूरे प्रदर्शन को लेकर फ़्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों, वहां के प्रधानमंत्री और आंतरिक मामलों के मंत्री रविवार शाम को एक मीटिंग करने वाले हैं। बताया जा रहा है की इस मीटिंग में प्रदर्शनकारियों से निपटने और उनसे बातचीत करने की तरफ आगे बढ़ा जायेगा। देश में इस प्रदर्शन से निपटने के लिए आपातकाल लागू करने को लेकर सवाल किये जाने पर सरकार के प्रवक्ता ने बताया की सरकार के पास यह विकल्प भी है।