हमारे राष्ट्र अन्नदाताओं की हालात सुधारने के लिए गवर्नमेंट द्वारा तमाम दावे किए जाते हैं, लेकिन उनके दुखों का अंत नहीं दिख रहा है हाल ही में ऐसा सुनने में आया है कि महाराष्ट्र के एक किसान को अपनी फसल प्रति किलो एक रुपये से कुछ ज्यादा दाम पर बेचने को मजबूर होना पड़ा इसके विरोध में किसान ने 750 किलो प्याज के बदले मिले 1064 रुपये पीएम को भेज दिया

हम बात कर रहे है नासिक जिले के निफड़ तहसील के रहने वाले संजय साठे की जो उन चुनिंदा ‘प्रगतिशील किसानों’ में थे, जिन्हें 2010 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के हिंदुस्तान दौरे के दौरान उनसे संवाद करने के लिए केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा चुना गया था इस किसान ने अपना दुखड़ा सुनाते हुए बोला कि, ‘मैंने इस सीजन में 750 किलो प्याज का उत्पादन किया, लेकिन पिछले सप्ताह निफड़ थोक मार्केट में मुझे 1 रुपये प्रति किलो का भाव मिल रहा था ‘

उन्होंने आगे बोला कि, ‘किसी तरह मैंने मोल-भाव करके 1.40 रुपये प्रति किलो में सौदा तय किया 750 किलो प्याज के बदले मुझे 1064 रुपये मिले ’ बताते चलें कि राष्ट्र के कुल प्याज उत्पादन की 50 प्रतिशत पैदावार उत्तरी महाराष्ट्र के नासिक जिले में ही होती है

साठे ने अपनी बात रखते हुए आगे ये भी कहा, ‘महीनों की मशक्कत का ऐसा फल मिलने पर तकलीफ होती है इसलिए मैंने विरोधस्वरूप 1064 रुपये पीएम आपदा राहत खज़ाना में दान कर दिया मैंने अलावा 54 रुपये मनी ऑर्डर से भेजे हैं ’