नई दिल्ली। सोशल मीडिया जो न कराए वो कम है, किसी को राजा से रंक बना सकता है तो किसी तो रंक से राजा। इसी सोशल मीडिया ने एक मोची की किस्मत का ताला खोल दिया। हरियाणा के इस मोची को महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने अपने साथ काम करने का ऑफर दिया है।

मोची ने सड़क पर लगी अपनी दुकान पर एक बैनर लगाया हुआ था, ‘जख्मी जूतों का हस्पताल’

दरअसल, सोशल मीडिया एक मोची की तस्वीर बहुत तेजी से वायरल हो रही है, जिसमें मोची ने सड़क पर लगी अपनी दुकान पर एक बैनर लगाया हुआ था, ‘जख्मी जूतों का हस्पताल’।

मोची की इस तस्वीर ने आनंद महिंद्रा को काफी प्रभावित किया और वो उसकी मदद के लिए आगे आए। मोची का नाम नरसीराम है और इसके बारे में ट्वीट करते हुए महिंद्रा ने लिखा, ‘हरियाणा में हमारी टीम उनसे मिली और पूछा कि हम कैसे उनकी मदद कर सकते हैं। साधारण और नम्र नरसीजी ने पैसे नहीं मांगे उन्होंने काम करने के लिए बेहतर जगह की जरूरत के बारे में बताया।’

नरसीराम की इस डिमांड के बाद आनंद महिंद्रा ने मुंबई की अपनी डिजाइन स्टूडियो टीम से एक चलती-फिरती दुकान डिजाइन करने को कहा। उनकी टीम ने कुछ डिजाइन तैयार भी कर दिए हैं और नरसीराम को दिखाए हैं। अब बहुत जल्द नरसीराम एक चलती- फिरती डिजाइनर दुकान में जूतों की मरम्मत करते नज़र आएंगे।

नरसीराम हरियाणा के जींद की पटियाला चौक पर जूते-चप्पलों की मरम्मत करते हैं। नरसी ने लोगों का ध्यान खींचने के लिए जो बैनर लगाया है उस पर लिखा है- ‘जख्मी जूतों को हस्पताल डॉ. नरसीराम’। नरसी ने अपने बैनर में अस्पताल की तर्ज पर कई तरह कि जानकारी दे रखी है। मसलन लिखा है कि ओपीडी सुबह 9 से दोपहर 1 बजे, लंच दोपहर 1 से 2 बजे और शाम 2 से 6 बजे तक अस्तपाल खुला रहेगा। आगे लिखा है- ‘हमारे यहां सभी प्रकार के जूते जर्मन तकनीक से ठीक किए जाते हैं।’

तो इस तरह सोशल मीडिया की वजह से मोची नरसीराम की किस्मत बदल गई। अच्छा होगा हम सब सोशल मीडिया का इस्तेमाल ऐसे ही अच्छे कामों के लिए करें।