शामली उत्तर प्रदेश में एक मुस्लिम परिवार ने धर्म परिवर्तन कर हिन्दू धर्म अपना लिया। शहजाद ने अपना व बेटे का नाम भी बदल दिया। खुद का नाम संजू राणा व बेटे का शेखर राणा रखा है। शहजाद ने बताया कि मेरे सपने में भगवान श्री राम आए थे, इसके बाद उसका इरादा हिंदू धर्म अपनाने का हो गया। हरेंद्र नगर शामली निवासी शहजाद पुत्र गफ्फार ने अपने धर्मपरिवर्तन के लिए जिलाधिकारी को शपथ पत्र दिया। शपथ पत्र के अनुसार शहजाद ने अपना नाम बदलकर संजू राणा रख लिया है।

उसने लिखा कि उसके पूर्वज सदियों पहले हिंदू धर्म त्यागने के बाद मुस्लिम हो गए थे। इसके बाद भी उसकी आस्था हिंदू धर्म में रही। अब उसने बिना किसी भी दबाव तथा जोर जबरदती के इस्लाम धर्म को त्यागकर दुबारा हिंदू धर्म को अपना लिया है। उसने बताया कि एक रात उसने सपने में भगवान श्रीराम का विराट स्वरूप देखा, इसके बाद से ही हिंदू धर्म में वापसी का मन बना लिया। पत्नी और नौ साल के बेटे ने धर्म परिवर्तन नहीं किया है। इस संबंध में जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने कहा कि शपथ पत्र देने वाले को कार्रवाई के लिए एसपी के पास भेज दिया गया है।

शहजाद ने बताया कि दो महीने पहले वह घूमने के लिए मनाली गया था । वहां एक प्राचीन मंदिर में उन्होंने मत्था टेका। कुछ दिन पहले उन्हें सपने में भगवान राम दिखाए दिए। उनसे बातचीत भी हुई। उन्हें अपनी मानसिक दशा के बारे में भी बताया। शहजाद का कहना है कि प्रभु ने सपने में दर्शन दिए तो सोच लिया कि अब धर्म बदल लिया है। इसके बाद शहजाद ने शामली के डीएम से धर्म परिवर्तन कर हिंदू धर्म अपनाने की बात कहते हुए पूजा पाठ करने की अनुमति की अर्जी लगाई है।

संजू का कहना है कि भगवान श्रीराम को वह अपना इष्ट देवता मानते हैं। आज से वह हिंदू धर्म के रीति रिवाज के अनुसार जीवन यापन करेंगे। संजू ने कलेक्ट्रेट में बने शिव मंदिर में पूजा अर्चना भी की और भगवान शिव व श्रीराम के नारे लगाए। मैन लास्ट में लिखा है कि कुछ लोग ये आरोप लगा सकते है कि आदमी ने लालच या दबाव में आकर धर्म परिवर्तन किया है पर अगर ऐसा होता तो पूरा परिवार धर्म बदल हिन्दू बनता, पर संजू की पत्नी और एक बेटा तो अभी भी इस्लाम मान रहे है। जिससे साबित होता है कि स्वेच्छा से धर्म बदला गया है ।