पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर पीओके में रहने वाले एक नाबालिग लड़के को एलओसी पार करके भारतीय सीमा में आने के बाद हिरासत में ले लिया था. दरअसल इस लड़के ने गलती से एलओसी पार की थी इसे बुधवार को पाकिस्तानी अधिकारियों को सौंपा गया.

इसने जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में 4 दिनों पहले गलती से भारतीय सीमा को पार कर लिया था. प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार 24 जून को पुंछ के देगवार इलाके में घूम रहा 11 साल का मोहम्मद अब्दुल्ला था जिसने गलती से सीमा पार कर ली दी.

जहां से उसे सेना द्वारा पकड़ लिया गया था. इसके बाद उसी दिन उसे जम्मू कश्मीर पुलिस के हवाले कर दिया गया था. जहां पुलिस ने उसे पाकिस्तान वापस भेजने के लिए आवश्यक औपचारिकताएं पूरी की.

वहीं एक रक्षा प्रवक्ता के अनुसार अब्दुल्ला को मानवीय आधार पर रिहा किया गया है क्योंकि उसकी उम्र बहुत कम है. ऐसा करने के पीछे का एक और कारण भारत पाकिस्तान के बीच विश्वास बढ़ाना भी है.

आगे प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय सेना एक मानवीय सेना होने के साथ अपने सिद्धांतों को मानती है और निर्दोष नागरिकों के साथ किसी भी तरह का व्यवहार करते वक्त संवेदनशीलता बरकरार रखती है.

11 वर्षीय अब्दुल्ला को पाकिस्तानी अधिकारियों को सौंपने के साथ ही सेना ने उसे भारत की तरफ से नए कपड़े और मिठाईयां भी दी गईं. भारत ने ऐसा करके दुनिया के सामने एक बहुत अच्छा उदाहरण भी पेश किया है कि चाहे पाकिस्तान भारत के साथ कैसा भी व्यवहार करे लेकिन भारत कभी भी किसी निर्दोष नागरिक को सजा नहीं देता है.