शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) फूलप्रूफ कराने के दावों की हवा निकल गई। रविवार की परीक्षा में सेंधमारी करते 32 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। ये गिरफ्तारियां एसटीएफ और स्थानीय पुलिस ने की हैं। श्रावस्ती में ननद की जगह परीक्षा दे रही भाभी को पकड़ा गया और जेल भेज दिया गया। भाभी खुद लेखपाल है। एक-एक लाख में फर्जी प्रश्नपत्र बेच रहे वाराणसी और बिजनौर से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया। पूरे प्रदेश में आयोजित इस परीक्षा में बेखौफ मुन्ना भाइयों की इस कदर बाढ़ थी कि एसटीएफ कर्मियों की कमी पड़ गई।

एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह ने बताया कि मुरादाबाद में पेपर साल्व करने आए एक गिरोह को पेपर शुरू होने से पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया। यहां 10-10 लाख रुपये में ठेका दिया गया था।

श्रावस्ती में जनता इंटर कॉलेज पटना खरगौरा में अपनी ननद के स्थान पर परीक्षा दे रही महिला लेखपाल को नायब तहसीलदार ने पहचाना और उसे पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने लेखपाल को जेल भेज दिया। बुलंदशहर में साल्वर गैंग के तीन सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है जबकि तीन अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

बीएसए की गाड़ी से पहुंचा सॉल्वर
कुशीनगर के कसया में एक परीक्षार्थी सॉल्वर को लेकर बीएसए की गाड़ी से परीक्षा देने पहुंचा, लेकिन मामला खुलते ही सॉल्वर भाग निकला। बीएसए के चालक को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। डीएम ने जांच के आदेश दिए हैं।

इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के साथ पकड़ी गई शिक्षामित्र
भदोही में एक महिला शिक्षामित्र को इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के साथ गिरफ्तार किया गया। उसने बताया कि ढाई लाख में सौदा तय हुआ था। जौनपुर में एक युवक दूसरे की जगह परीक्षा देते पकड़ा गया। प्रयागराज में भी सॉल्वर गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार किए गए। इनके पास से 60 हजार नगद, पांच इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस व अन्य सामान बरामद हुए।