इंदौर: राष्ट्र सहित प्रदेश में भी इस वर्ष डेंगू प्रभावित लोगों की संख्या पिछले वर्ष की तुलना में तीन गुना तक हो चुकी है. वहीं सेहत विभाग की रिपोर्ट के अनुसार 2016-17 में नवंबर माह तक डेंगू के 128 केस सामने आए थे. वहीं इस वर्ष जनवरी 2018 से 21 नवंबर तक 343 डेंगू के मरीज मिले हैं.जानकारी के अनुसार बता दें कि तमाम तरीकों के बाद भी डेंगू फैलाने वाले एडिज मच्छर के लार्वा को पूरी तरह से नष्ट करने में विभाग पास नहीं हो पाया.

वहीं बता दें कि लाखों रुपए इसकी रोकथाम पर हर वर्ष खर्च किए जा रहे हैं. इसके साथ ही सेहतविभाग के आंकड़ों के अतिरिक्त भी सैकड़ों की संख्या में मरीज प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती हुए हैं.जिनकी जानकारी तक विभाग के पास नहीं है. वहीं बता दें कि शहर में जुलाई के बाद से डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है  सेहत विभाग भी इसकी रोकथाम और जागरूकता के लिए अभियान चलाने के बाद भी कोई प्रभाव होता दिखाई नहीं दे रहा. वहीं जिला पंचायत सीईओ नेहा मीणा ने सेहत विभाग के अधिकारियों से जानकारी मांगकर अभियान तेज करने के लिए भी बोला था.इसके बाद भी कोई विशेष जागरूकता अभियान नहीं चलाया जा सका है.

गौरतलब है कि राष्ट्र के अतिरिक्त प्रदेशों में वर्षों बाद भी शहर के किसी भी सरकारी अस्पताल में डेंगू, स्वाइन फ्लू या चिकनगुनिया के उपचार की पूरी सुविधाएं उपलब्ध नहीं है. वहीं बता दें कि विभाग शहर की आबादी के अनुसार अपडेट नहीं हो पाया. इसके साथ ही आईडीएसपी विभाग सिर्फ कागजी कार्रवाई और रिपोर्ट का डाटा रखने तक ही सीमित दिखाई दे रहा है. सेहत विभाग का अभियान चलाने और नियंत्रण का कार्य नाकाफी साबित हो रहा है.