भोपालः  दो माह से कर्ज माफी का इंतजार कर रहे मध्य प्रदेश के खरगोन में किसान कर्ज माफी की सूची देखकर तब चौंक गए जब सूची में कुछ किसानों के सिर्फ 25 और 300 रुपये माफ होना ही दर्शाए गए था।लेकिन गुस्साए किसानों का कहना है कि कर्ज की राशि इससे अधिक है।

प्रशासन का यह हिसाब समझ से परे प्रतीत होता है। प्रशासन का अनुसार, जिन किसानों पर 31 मार्च 2018 तक की अवधि में ऋण है, सूची उन्हीं की जारी की गई है।जबकि कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में स्पष्ट रूप से सभी किसानों का दो लाख रुपये तक का कर्ज माफ करने की ऐलान किया था।

स्थानीय टाउन हॉल में कर्ज माफी की सूची जय किसान ऋण मुक्ति योजना के तहत बुधवार को चस्पा की गई थी। इसमें जैतपुर के किसान प्रकाश के 25 रुपये माफ होने का अंदेशा है। प्रकाश ने कहा कि समझ से परे है कि ढाई लाख रुपये के कर्ज में मात्र 25 रुपये किस हिसाब से माफ किए गए हैं।यही हाल सिकंदरपुरा के अमित का है उनके  300 रुपये माफ होने का जिक्र है। जबकि अमित का कहना है कि उन पर 30 हजार रुपये का कर्ज था।

कृषि विभाग के आंकड़ो के मुताबिक, जिले में दो लाख 57 हजार 600 संभावित ऋणि कृषक हैं। इनमें एक लाख 52 हजार सहकारी बैंक के और राष्ट्रीयकृत बैंकों के कुल 20 हजार 600 किसान शामिल हैं।

किसानों नेताओं का कहना है कि घोषणा के मुताबिक सभी का कर्ज माफ होना चाहिए। सूची के अनुसार कई किसानों का सिर्फ 25 रुपये तक का ही कर्ज माफ किया गया, जबकि कर्ज इससे अधिक लिया गया है। सरकार को अपना वादे पर अमल करना चाहिए।