दक्षिण भारत की यह नदी पितृ पक्ष की अमावस्या को प्रकट होती है और दीपावली के दिन अमावस्या को विलीन हो जाती है .सिर्फ एक महीना है ना प्रकृति का अदभुत चमत्कार