नई दिल्‍ली: भारत-पाक 1971 के युद्ध में पाकिस्‍तानी लड़ाकू विमानों ने अपना दूसरा हमला आगरा पर किया था इस हमले में पाकिस्तान वायु सेना ने इंडियन एयरबेस के साथ विश्‍व के सातवें अजूबे ताजमहल को भी ध्‍वस्‍त करने की साजिश रची थी इसी साजिश के तहत पाकिस्‍तान की वायु सेना ने 3-4 दिसंबर की रात आगरा में बमबारी प्रारम्भ की थी इस बमबारी में पाकिस्‍तानी वायु सेना ने 500 पाउंड वजन के 16 बम आगरा में गिराए थे इसमें 3 बम एयरफोर्स परिसर में गिरे, जबकि बाकी बम एयरबेस के समीप स्थित खेतों में गिरे पाकिस्‍तानी एयरफोर्स अपने मंसूबे में पास हो पाती, इससे पहले इंडियन वायु सेना ने पाक के बी-57 विमान को मार गिराया

पाक एयरफोर्स के हमले में रन-वे को छोटी नुकसान
सेना से जुड़े वरिष्‍ठ ऑफिसर के अनुसार, पाकिस्‍तान द्वारा गिराए गए बमों में तीन बम एयरपोर्ट परिसर में आकर फटे इसकी वजह से आगरा एयरबेस के रन-वे को छोटी नुकसान पहुंचा वहीं, कुछ बम समीप के खेतों में जाकर फटे वहीं, कुछ बमों को समीपवर्ती इलाकों से जिंदा बरामद किया गया था पाकिस्‍तानी एयरफोर्स का मंसूबा था कि वह आगरा एयरबेस को पूरी तरह से नष्‍ट कर दें, जिससे इंडियन सेना को आगरा से एयरफोर्स की मदद न पहुंच सके हालांकि, इंडियन वायु सेना की इच्‍छाशक्ति के सामने पाकिस्‍तान के सभी मंसूबे विफल हो गए इंडियन वायुसेना ने रातोंरात रन-वे को दुरुस्‍त कर दिया था

काले कपड़े  पेड़ की पत्तियों से ढंका गया ताजमहल
पाकिस्तान वायु सेना के हवाई हमलों के चलते पूरे राष्ट्र में ब्‍लैक आउट घोषित कर दिया गया थाबावजूद इसके संगमरमर से बना ताजमहल अभी भी रात में दमक रहा था ऐसे में यह खतरा बना हुआ था कि पाकिस्तान वायु सेना के लड़ाकू विमान ताजमहल को अपना निशाना ना बना लें लिहाजा, ताजमहल की सुरक्षा के लिए आनन-फानन में कवायद प्रारम्भ की गई ताजमहज की मुख्‍य गुंबद चारों मीनारों को काले रंग के कपड़े से ढक दिया गया इसके अलावा, मुख्‍य गुंबद के चारों तरफ लड़की की बल्लियों को बांधकर काले रंग के कपड़ों को नीचे लटकाया गया गुंबद  नीचे की फर्श को पेड़ों की पत्तियों  घास से ढक दिया गया, जिससे दुश्‍मन को ताजमहल का कोई भी हिस्‍सा न दिख सके